web hosting kya hai in hindi : 5 important topic

Spread the love
  • 29
  •  
  •  
  • 2
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •   
  •   
  •  
  •  
    32
    Shares

आज हम जानेगे की ( Web hosting kya hai ) अपने वेबसाइट बनाई  है तो अच्छी बात है। अपने  एक कठिन काम को पूरा किया है । वेबसाइट का संचालन करना एक कठिन काम है पर आपको प्रॉपर जानकारी होगी तो उसे सचांलन करने में सुभिदा होगी। वेबसाइट से सम्बंधित चाहे वह छोटी से छोटी बात हो या बड़ी बात हो जानकर होना आवश्यक है। वेबसाइट को बनने के लिए डोमेन और होस्टिंग होना आवश्यक है।  इन दोनों की मदद से वेबसाइट का निर्माण हो पता है ।

जब हम इस क्षेत्र नए होते है तो होस्टिंग  क्या है और हमारी आवश्यकता के अनुसार किस होस्टिंग चुनाव करना चाहिए। इसके बार में जानकारी नहीं है तो गलत होस्टिंग सुन लेते है । जिसके कारण परेशनी होती है । इस में ब्लॉग होस्टिंग के बारे बताया जायेगा और कौन सी होस्टिंग कैसे काम करती है।

 hosting  कितने प्रकार की है , किस वेब होस्टिंग कब चुनाव करना चहिये , होस्टिंग क्यों महत्वपूर्ण होती है , web hosting  काम  करता है । इन सब के बारे जानेगे ।  website  बनाना चाहते है तो वेब होस्टिंग के बारे में जानना आवश्यक है । domain  name  और होस्टिंग क्या अंतर है । web server क्या है इस के बारे भी जानेगे। 

Contents hide
3 hosting कितने प्रकार की है , किस वेब होस्टिंग कब चुनाव करना चहिये , होस्टिंग क्यों महत्वपूर्ण होती है , web hosting काम करता है । इन सब के बारे जानेगे । website बनाना चाहते है तो वेब होस्टिंग के बारे में जानना आवश्यक है । domain name और होस्टिंग क्या अंतर है । web server क्या है इस के बारे भी जानेगे।

आइये हम जानते है की वेब होस्टिंग से पहले इंटरनेट के बारे में । आपके मन में प्रश्न आया होगा की इंटरनेट और होस्टिंग से क्या संबंध है। इसके बार में जानकारी लेते है । ब्लॉग्गिंग से सम्बंधित जानकारी लेना चाहते है लिंक क्लिक करे –

Link-

 

(1)  इंटरनेट क्या है ? internet kya hai  

इंटरनेट एक प्रकार का mediator है । आज  के समय में पूरी दुनिया इंटरनेट से जुडी है । चाहे वह मोबाइल हो या फिर कंप्यूटर  सभी इंटरनेट जुड़े है । 

इंटरनेट optical fiber cable के द्वारा काम करता है । जो TR1 कंपनी होती है  optical fiber cable को बिछाने काम करतीहै । जिन्हो ने पुरे दुनिया में समुद्र  के अंदर optical fiber cable को बिछा रखा है । हर देश में उनके सेण्टर होते  है । TR2 कंपनी अनुबंध करती है TR1 से कंपनी से इंटरनेट सप्लाई के लिए । TR2 कंपनी काम है देश के अंदर इंटरनेट सुभिदा प्रदान करने का काम करता है । TR2 नाम है – airtel  , jio , idea  इत्यादि ।

अपने कोई इनपुट दिया है । वह इनपुट के साथ आपके डिवाइस का IP एड्रेस जाता  है क्योकि उसी IP  एड्रेस के द्वारा  आउटपुट मिलेगा। उसी IP के द्वारा मिलेगा ।  DNS में  खोजता है की उस इनपुट से सम्बंधित कौन से IP  एड्रेस  (domain name ) में मौजूद है । वह जिस डाटा सेण्टर में वह इनपुट मौजूद होगा उस डाटा सेण्टर को signal भेजेगा और जिस IP  एड्रेस ( डोमेन ) के सर्वर में वह इनपुट मौजूद उसे signal  भेजेगा । उस server के द्वारा इनपुट से संबंधित  डाटा को भेजना शुरू कर देता है ।

वह लाइट की स्पीड से आप तक पहुँचता है । इंटरनेट काम हैं की एक स्थान से दूसरे स्थान  डाटा  पहुचना है। जो भी डाटा ट्रांसफर होता है वह IP एड्रेस  किता जाता है । डाटा या इनपुट भेजा जाता है वह वेब होस्टिंग या वेब सर्वर के द्वारा  हमे प्रदान करता है । 

 

(2) वेब होस्टिंग ( web hosting kya hai meaning )

Web hosting  आपको इंटरनेट की दुनिया में जगह दिलाता है ।  जिसमे हम वेबसाइट के सभी कंटेंट सेव करने के लिए जगह प्रदान करता है । कंटेंट का मतलब है कि इमेज , वीडियो , पेजेज इत्यादि । 

यह आपको ऐसी जगह से होस्ट करते जो 24/7 इंटरनेट से कनेक्ट रहता है । कोई भी यूजर आपके कंटेंट को आसानी से उपयोग कर पता है । बिना किसी रुकावट के । वेब होस्टिंग कंपनी हमें जगह प्रदान करता है जो भी वेबसाइट ऐड करते चाहे वह इमेज, आर्टिकल , वीडियो या कुछ भी बदलाव करते । उन्हें ऑनलाइन सेव करने वेब सर्वर की  सुभिदा प्रदान करता है । आप कुछ भी सेव करते वेबसाइट में web  server  में सेव हो जाता है ।

Web hosting की सेवाएं बहुत कंपनी हमें प्रदान करती है । जिस कंपनी से वेब होस्टिंग की सुविधा ले रहे है । कस्टमर support  अच्छा हो क्योकि कोई भी दिक्कत आसानी से हल कर पाए ।

(a) web hosting india

web hosting  कंपनी नाम  prohosty  ,   godaddy  ,  namecheap  ,  hostinger  etc . 


(3)  वेब होस्टिंग कैसे काम करता है ? web hosting kaise kam karta hai 

जब भी कोई विज़िटर आपके वेबसाइट URL (https:// online4website.com/blog ) सर्च इंजन पर सर्च करते है । विज़िटर ने जिस पेज या ब्लॉग के लिए URL टाइप किया है । dns  में  find करके वह signal भेज देता है ।  वह इंटरनेट के माध्यम से जिस जगह से वेबसाइट को होस्ट कराया है । वेब होस्टिंग कंपनी ने हमारे लिए जिस Web  server  को  allot  किया और उसमे हमारा IP  एड्रेस ( डोमेन नाम ) रजिस्टर किया  है ।

हमारे IP  एड्रेस को  signal भेजता है फिर web server को अनुरोध भेजता है। जिस के लिए अनरोध  किया  है वह हमारे web server जानकारी को इक्कठा करता है इंटरनेट के माध्यम से  विज़िटर को available  कर देता। जिस कंटेंट के लिए यूआरएल टाइप किया है।

(a) वेब सर्वर की परिभाषा ( web server definition )

Web server   एक महत्वपूर्ण विषय है । आपके वेबसाइट का सभी डाटा इसमें स्टोर रहता है । आपके IP एड्रेस के नाम से स्टोर रहता है।  यह एक पावरफुल कंप्यूटर होता है । ऑनलाइन के द्वारा डाटा सेव होता है ।  

 

(4) वेब होस्टिंग लेते समय क्या देखना है ? web hosting lete samay kya dekhana hai 

(a) Company details

जब हम वेब होस्टिंग लेते है । हमें कंपनी के बारे में basic जानकारी होनी चाहिए ।about पेज जाकर देखा सकते है । उनके बारे में ।  जैसे की कंपनी कितने साल से काम कर रही । उनका vision क्या है और किनते कर्मचारी के साथ काम कर रही है । उस कंपनी का customer support  कैसा है । सस्ती होस्टिंग के चक्कर हम कंपनी के बारे में नहीं जानते है । 

होस्टिंग से सम्बंधित  कोई भी दिक्क्त आये तो हल कर पाए । कोई ऐसी कंपनी से खरीद लेते है जो अभी नई है । किसी कारण बस कंपनी बंद हो गई । आपको दिक्क्त हो सकती है । अगर आपको नोटिस दिया है । आपको  होस्टिंग  शिफ्ट करने के लिए कोई दिक्कत नहीं है । आप उसे शिफ्ट कर सकते है । अगर बिना नोटिस के अपनी होस्टिंग कंपनी बंद कर दी तो आपको भरी नुकसान हो सकता है । 

(b) Disk space and RAM 

जब हम होस्टिंग खरीदते है । यह देखना चाइये की RAM कितनी मिल रही है और स्टोर करने के लिए 500mb मिल रहा या फिर 1tb check करना चाहिए । अगर आपको अनलिमिटेड मिल रहा है। अच्छी बात है आपको स्टोरेज कोई दिक्कत नहीं होगी । 

(c) bandwidth meaning in hindi

bandwidth यह एक प्रकार से आपके सर्वर से डाटा कॉपी  को  एक्सेस करके डाटा को लोगो तक पहुंचना है । वह  कितनी स्पीड से डाटा को विज़िटर के पास  पंहुचा रहा है । मान लीजिये आपके आर्टिकल को एक समय में 1000 विज़िटर यूआरएल क्लिक किया है । यह पर bandwidth का काम है की सभी के पास उस आर्टिकल कॉपी को सभी यूजर के पास पंहुचा दे । जिससे आपके आर्टिकल को  विज़िटर पढ़ा पाए । कितनी से स्पीड पंहुचा रहा है।

अगर ज्यादा विज़िटर आपके site आ रहे है । bandwidth के capacity के बाहर है तो आपकी वेबसाइट slow हो जाती है । वेबसाइट देर से डाटा उपलब्ध करा रही है । विज़िटर ऐसी साइट पे दुबारा विजिट करना पसंद नहीं करेंगे । जब होस्टिंग ले चेक करके ले । अपने आवश्यकता के हिसाब से होस्टिंग प्लान चुने । 

(d) customer support

आप जिस वेबसाइट से वेब होस्टिंग खरीद रहे है। यह जाचे की जिस भाषा में आप कम्फर्टेबले है। है या नहीं मान लीजिये की आप हिंदी में कम्फर्टेबले है पर जहा से लिया है वह पर इंग्लिश भाषा में संवाद  किया जाता है ।  संवाद  करने दिक्कत आएगी । customer support आपको 24/7 मिलता रहे ।  customer friendly  होना चाहिए । 

(5) वेब होस्टिंग के प्रकार – web hosting types

आप ने जान की web  hosting  kya hai  , कौन सी company  india  में service  देती है और उनका customer support अच्छा है इंडिया में की नहीं  , वेब होस्टिंग कंपनी के बारे में  जितनी जानकारी हो उतनी आपके लिए अच्छा रहेगा  । वेब कंपनी से फ्री रहोगे । आपको  कोई भी दिक्क्त होगा आप आसानी से हल कर पाएंगे। 

हम जानते है की web  hosting  कितने types  है । वेब होस्टिंग मुख्य 2 प्रकार की होती है । इनको विभाजित करने के बार नई वेब होस्टिंग का निर्माण होता है ।

  1. Shared  Web hosting 
  2. VPS  ( Virtual Private Server ) Web Hosting 
  3. Dedicated Web Hosting
  4. Cloud  Web Hosting

Cloud Web Hosting kya hai ?

Cloud_Web_Hosting
Cloud web hosting kya hai

 

आइये  हम जानते है Cloud web Hosting hai .   इस एक बेहतरीन वेब हॉटिंग है । इसके द्वारा हम वेबसाइट को होस्ट करते है तो  वेबसाइट चार गुना फ़ास्ट ओपन होगी । इसके पास कई dedicated hosting होती है । हर देश में Dedicated Hosting होती है । इन सभी से connect  रहती है  cloud  web  Hosting   ।

मानलीजिए एक Dedicated Hosting काम करना बंद कर दे या कोई technical issue तो वह दूसरे Dedicated Hosting से service देना शुरू कर देता है । आपके वेबसाइट की एक कॉपी  Dedicated Hosting करके रखती है । फ़ास्ट खुलने का कारण यह हर जगह वेबसाइट कॉपी save होती है । अगर मैंने india से आपके वेबसाइट को call किया तो वह india के Dedicated Hosting से आपके वेबसाइट डाटा लाके उपलब्ध करा देता है । 

 

Cloud Web Hosting के लाभ 

  1. इस होस्टिंग से अगर वेबसाइट होस्ट करते है क्यों फ़ास्ट खुलता है । क्योकि इस होस्टिंग के हर देश में इनके dedicated होस्टिंग होते है । वह आपके वेबसाइट की एक कॉपी सभी देश के dedicated होस्टिंग के सर्वर भेज देता है । मान लीजिये किसी ने आपकी वेबसाइट को इंडिया सर्च किया है तो वह इंडिया के सर्वर से डाटा को लेकर यूजर को सामने उपस्थित कर देता है । वह काम टाइम में उपलब्ध करा देता है । कुल मिलके यह मतलब है की उसे जिस जगह से भी सर्च करेगा तो वह उसके नजदीक dedicated  होस्टिंग से डाटा लेकर प्रस्तुत कर देता है । 
  2. इस होस्टिंग में website security काफी ध्यान रखा जाता है । जब आपकी वेबसाइट famous हो जाती है तो हैकर के द्वारा अटक होता है । हैक होने मौका कम होता है क्योकि इसमें वेबसाइट हर जगह उसकी एक कॉपी रहती है । 
  3. वेबसाइट का कभी सेवेर डाउन नहीं होता है । ट्रैफिक को आसानी से हैंडल कर लेता है । 
  4. मान लीजिये जिस सर्वर से सर्विस दे रहा है अगर को दिक्कत है भी तो वह वह देसरे सर्वर से सर्विस देना शुरू कर देता है ।

Cloud web hosting के दुष्प्रभाव 

  1. यह होस्टिंग बाकि होस्टिंग से महगी होती है । 

 

Dedicated web hosting kya hai 

Dedicated Web Hosting
Dedicated Web Hosting kya hai

 

हम जानते है की Share web hosting  kya hai .   Share hosting में एक ही सर्वर में कई वेबसाइट रन होती है पर dedicated hosting एक ही सर्वर में एक वेबसाइट रन होती है । इस web  hosting में एक ही वेबसाइट के डाटा save होता है । इसका उपयोग तब किया जाता है। जब आपके वेबसाइट में ज्यादा ट्रैफिक आ रहा है । इस होस्टिंग में आपके लिए एक कंप्यूटर को आपके अनुसार डिज़ाइन किया जाता है । आप जैसा चाहेंगे वैसा तैयार किया जाता है । 

उदाहरण – चार मंजिल की बिल्डिंग में  B ने 1 मंजिल पूरा ले लिया । उस मंजिल का मालिक B होगा । उसमे दूसरा आदमी मालिक नहीं होगा । बिना किसी दिक्कत कुछा भी कर सकते । 

Dedicated hosting के लाभ 

  1. इस होस्टिंग में सिर्फ आपकी वेबसाइट रन होगी । 
  2. इस होस्टिंग में आपकी वेबसाइट का डाटा सर्वर में स्टोर होता है ।
  3. वेबसाइट fast खुलती  है ।
  4. वेबसाइट के security पर ध्यान देता है । बाकि होस्टिंग की अपेक्ष ज्यादा ध्यान देते है ।
  5. यह आपके पास नहीं होता पर आपके पास पूरा नियंत्रण रहता है ।

Dedicated hosting के दुष्प्रभाव 

  1. यह बाकि होस्टिंग के अपेक्षा महगा होता है । 
  2. इस होस्टिंग को  मैनेज करने के लिए knowledge  की आवश्यकता पड़ती है ।
  3. आपको होस्टिंग मैनेज करना नहीं आ रहा है तो आपको अनुभवी व्यक्ति या होस्टिंग को मैनेज करने वाली कंपनी से सर्विस लेना पड़ेगा ।

VPS web Hosting kya hai ?

Virtual Private Server ( VPS )Hosting
VPS Web Hosting kya hai

 

हम जानते है VPS web hosting kya hai .  यह होस्टिंग एक प्रकार से Dedicated Hosting की तरह होता है । इसमें भी सिर्फ आपकी वेबसाइट रन होती है । इस होस्टिंग में सिर्फ आपका डाटा save होता है। हमारी वेबसाइट fast खुले , वेबसाइट का डाटा fast लोड हो  , आपके ट्रैफिक को हैंडल कर पाए  , काम एक्सपेंस कम हो ।

इन सब को देखते हुए VPS होस्टिंग का निर्माण किया । यह Dedicated Hosting के अंदर VPS Hosting का setup किया गया है । वेबसाइट सुरक्षित रहती है । इसमें अपनी आवश्यकता के अनुसार बड़ा और घटा सकते है । 

VPS Hosting  के लाभ  

  1. इस होस्टिंग में आपको एक अच्छा रिस्पांस मिलता हैं।
  2. आपके पास पूरा कण्ट्रोल होता है ।
  3. sequrity  काफी ध्यान दिया जाता है।
  4. यह कम प्राइस में आपको मिल जाता है । 
  5. सर्वर फ़ास्ट  response देता है । जल्दी डाटा एक्सेस करके यूजर को उपलब्ध करा देता है । 
  6. जब आपके वेबसाइट में ट्रैफिक अच्छा रहा है तो आप किस होस्टिंग का चुनाव कर सकते है । 
  7. इस होस्टिंग में अपने अनुसार परिवर्तन कर सकते है ।

VPS Hosting  के दुष्प्रभाव 

  1. हमें जितना dedicated होस्टिंग में टूल उसे कर पाते है । उससे कम उपयोग कर पाते है । 
  2. इस होस्टिंग काम करने के होस्टिंग मैनेज करने की जानकारी की आवश्यकता पड़ती है ।

 

Share Web Hosting kya hai ?

Share_web Hosting
Shared Web Hosting kya hai

 

हम Shared web  hosting kya hai इसके बारे में जानते है ।  जैसे इसके नाम से स्पष्ट हो रहा है शेयर होस्टिंग । इस होस्टिंग में एक ही वेब सर्वर कई वेबसाइट रन होती है । इस होस्टिंग का चुनाव प्रायः वह करते है जो इस क्षेत्र में काम शुरू किया है और काम पैसे शुरुआत करना चाहता है । जब आप  शुरुआत करते है  तो उस समय  ज्यादा ट्रैफिक नहीं होता । जब आपकी वेबसाइट एक अच्छे  स्टेज आ गई है और ट्रैफिक भी अच्छा खाश आ रहा है । आपको होस्टिंग अपग्रेड करना पड़ेगा । 

इसमें जैसे की आपकी Web Server पर कई वेबसाइट रन होती है । जिसके कारण डाटा बजाने टाइम लगता है । वेबसाइट देर से लोड होती है । आपके वेबसाइट में ज्यादा ट्रैफिक आ रहा है तो आपका सर्वर डाउन हो जाता है।

Share Hosting के लाभ 

  1. इस होस्टिंग ज्यादा जानकारी आवश्यकता नहीं होती है । आसानी से मैनेज करना आसान होता है । 
  2. जो अभी शुरू कर रहे है उनके लिए बेस्ट होता है । 
  3. यह  कम price में मिल जाता है ।
  4. cpanel के द्वारा होस्टिंग को मैनेज करने आसानी होती है ।

Share Hosting के दुष्प्रभाव 

  1. इस आप एक सीमा तक इस टूल उपयोग कर पाते है। 
  2. इसमें security बाकि होस्टिंग  उतना अच्छा नहीं होता है । 
  3. इस होस्टिंग कई वेबसाइट होस्ट होती है जिसके कारण प्रदर्शन ( performance ) थोड़ा ऊपर निचे होता रहता है ।

Linux  और Windows क्या है ?

Linux यह एक operating system है । operating system किसी एप्लीकेशन को चलने मदद करता है । Linux एक open source software है । linux फ्री होता है । इसे कोई भी डाउनलोड करके install कर सकते है । linux  को अधिकतम वेब  सर्वर  उपयोग किया जाता है और कुछ सर्वर के windows का उपयोग करते है । यह सिक्योरिटी  अच्छी होती है ।

इसमें virus कोई चिंता नहीं होती है । जैसे इसका उपयोग  वेब सर्वर , HP , DELL , NASA’s अपने सुपर कंप्यूटर , android आदि में किया जाता है । linux सस्ता इसलिए है क्योकि कोई लाइसेंस की आवश्यकता नहीं होती है । इसके पैसा नहींदिया जाता है। यह एक अच्छा ऑप्शन होता है । linux  का अधिकतम  उपयोग  ब्लॉगर करते है । 

Window  भी एक अच्छा operating system है । यह easy to use होता है । यह भी  सिक्योर होता है । इसमें अधिकता टूल का उपयोग कर सकते है । यह महगा होने का कारण है की इसके लिए license  key आवश्यकता होती है । इसको लेने के लिए पैसा में करना पड़ता है । अगर जरुरत है तो इसे ले सकते है अगर आवश्यकता नहीं है तो न ले । 

डोमेन और होस्टिंग  क्या अंतर है ?

डोमेन नाम उपयोग है की  विज़िटर ने जिस भी  डाटा देखने के लिए आपके URL को टाइप किया है । वह आपके वेब सर्वर डाटा को उस डोमेन या पाते पहुँचता है। डोमेन नाम नहीं होगा । आप डाटा विज़िटर कैसे पहुंचेगा । 

जैसे – मानलीजिए  अपने ऑनलाइन कोई सामान मगवाया है । कैसे पहुंचेगा  ? वह तब पहुंचेगा जब आपका पता होगा तभी आप तक पहुचायेगा । अपने सामान मगवाया अपने पता डालना भूल गए या गलत पता डाल दिया आप तक पहुंच पायेगा । नहीं न ।

होस्टिंग का उपयोग है की आपके डाटा को स्टोर करवाना और जब कोई आपके डाटा का देखने के डोमै नाम टाइप करे तो । उस डाटा को सर्वर से डोमेन तक पहुचाये । 

जैसे – जिस ऑनलाइन साइट से मगावा रहे है । वह आपकी  होस्टिंग हो गई । जहा डाटा स्टोर है । ऑनलाइन साइट उस स्टोर से सामान को  उठाकर आप तक पहुँचता है ।  

( 6 ) Web  Hosting kya hai  से सम्बंधित वीडियो देखा सकते है ?

Web Hosting kya hai   – https://www.youtube.com/watch?v=ITe8OsJRgeM&t=330s

 

 

 

Subhash Dubey
Follow me

Spread the love
  • 29
  •  
  •  
  • 2
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •   
  •   
  •  
  •  
    32
    Shares
  •  
    32
    Shares
  • 29
  •  
  •  
  • 2
  • 1
  •  
  •  
  •  
  •   
  •   
  •   
  •   
  •  

4 thoughts on “web hosting kya hai in hindi : 5 important topic

  1. Superb, today i understand about hosting, thanks…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *